सरसों की खेती: बढ़िया उत्पादन के लिए महत्वपुर्ण जानकारी 

सरसों की खेती: बढ़िया उत्पादन के लिए महत्वपुर्ण जानकारी  

अच्छे उत्पादन के लिए 15 से 25 सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है।

अच्छे उत्पादन के लिए 15 से 25 सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है।

बलुई दोमट मृदा सर्वाधिक उपयुक्त होती है।

बलुई दोमट मृदा सर्वाधिक उपयुक्त होती है।

बारानी में सरसों की बुवाई 05 अक्टूबर से 25 अक्टुबर तक कर देनी चाहिए।

बारानी में सरसों की बुवाई 05 अक्टूबर से 25 अक्टुबर तक कर देनी चाहिए।

बुवाई के लिए शुष्‍क क्षेत्र में 4 से 5 किग्रा और सिंचित क्षैत्र में 3 से 4 किग्रा बीज प्रति हेक्टेयर पर्याप्त रहता है।

सरसों की पहली सिंचाई बुवाई के 35 से 40 दिन बाद और दूसरी सिंचाई दाने बनने की अवस्था में करें।

सरसों की खेती: एक एकड़ में सरसों की बिजाई पर 4000 रुपए खर्चा आता है।

सरसों की खेती: एक एकड़ में सरसों की बिजाई पर 4000 रुपए खर्चा आता है।

सरसों की खेती: यह 105-110 दिन में पक जाती है

सरसों की खेती: यह 105-110 दिन में पक जाती है 

सरसों की खेती: 25-30 क्विंटल प्रति हैक्टर तक उत्पादन लिया जा सकता है।